चीन-रूस गठबंधन: वैश्विक व्यवस्था और सुरक्षा पर प्रभाव

The china-Russian Alliance

रूस और चीन का दोस्त बनना बहुत जोखिम भरा है क्योंकि इससे यथास्थिति में बदलाव आ सकता है और दुनिया में शांति और स्थिरता में व्यवधान आ सकता है। यह गठबंधन, जिसकी विशेषता आर्थिक, सैन्य और राजनीतिक संबंधों को मजबूत करना है, इस प्रकार पश्चिमी प्रभाव को चुनौती देता है और वर्तमान विश्व व्यवस्था को बाधित करने का प्रयास करता है।

आर्थिक संबंध और ऊर्जा सुरक्षा।

रूस और चीन के बीच व्यापार की मात्रा 240 अरब डॉलर तक बढ़ गई है। SENG 2023 की बारी 26 की होगी। पिछले वर्ष से 3% की वृद्धि। दूसरी ओर, यह वृद्धि ज्यादातर चीनी जरूरतों को पूरा करती है, जिसमें रूस आर्थिक मदद और उन्नत सैन्य तकनीक के लिए चीन पर अधिक से अधिक निर्भर होता जा रहा है। चीन में रूसी कच्चे माल का फैलाव और तैयार माल का आयात – विशेष रूप से कारों – चीन द्वारा अपने स्वयं के ऑटो उद्योग की कीमत पर सबसे अधिक संभावना है। चीन ने अपने आईटी उद्योग के माध्यम से रूस में भी पैर जमा लिया है, जो साइबर सुरक्षा विशेषज्ञों को नियुक्त करता है और रूस में कृत्रिम बुद्धिमत्ता (AI) स्टार्टअप हासिल करता है। एशिया पर रूस की आर्थिक निर्भरता इसकी राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए चिंताजनक दृष्टिकोण प्रस्तुत करती है और इस क्षेत्र में अमेरिका और उसके सहयोगियों की सुरक्षा को खतरा है।

सैन्य सहयोग और विश्व व्यवस्था।

चीन-रूस गठबंधन में एक महान शक्ति तालमेल है, जहां दोनों हितों और शक्ति के सार में एक साथ काम करते हैं। इस प्रकार, देशों ने सैन्य वार्ता की एक श्रृंखला पर सहमति व्यक्त की है और उनके बीच रणनीतिक सहयोग में सुधार करने की घोषणा की है। दक्षिण चीन सागर और ताइवान जलडमरूमध्य में सैन्य अभ्यास, जापान जैसे पड़ोस के देशों के बीच तनाव को बढ़ाने वाले कारकों में से एक रहे हैं। चीन ने रूस को यूक्रेन पर आक्रमण के बाद पश्चिम द्वारा उस पर लगाए जा रहे आर्थिक प्रतिबंधों से निपटने के लिए एक जीवन रेखा दी है। चीन को कुछ जोखिमों का सामना करना पड़ रहा है, उदाहरण के लिए, जब वे रूस का समर्थन करते हैं तो पश्चिम अब उनके लिए और भी अधिक शत्रुतापूर्ण हो सकता है। फिर भी, ऐसा लगता है कि विशेष रूप से चीनी पूंजी ने महसूस किया है कि रूसी सैन्य प्रौद्योगिकी के लाभ आर्थिक लागतों की भरपाई करते हैं।

अमेरिका और मित्र राष्ट्रों पर प्रभाव

चीन-रूस गठबंधन अमेरिका और एशिया में उसके सहयोगियों के लिए वास्तविक खतरा है। अगर चीन रूस से शीर्ष आधुनिक सैन्य तकनीक प्राप्त करने में सफल हो जाता है, तो सैन्य संतुलन पूरी दुनिया में चीन के पक्ष में बदल जाएगा। इससे ताइवान और चीन के बीच संभावित युद्ध के परिदृश्य में अमेरिकी नौसेना चीन के खिलाफ लड़ने में असमर्थ हो जाएगी। अमेरिका और उसके सहयोगियों को रूसी और चीनी सैन्य प्रतिष्ठानों के बीच साझेदारी की गहनता को ध्यान में रखते हुए और उसका निरीक्षण करके नज़रअंदाज़ नहीं करना चाहिए। अमेरिका एशिया में अपने सहयोगियों को ध्यान में रखना सुनिश्चित कर रहा है।

भारत का संतुलनकारी कार्य

भारत, अमेरिका और रूस दोनों का पड़ोसी है, जिसके साथ उसके संबंध जटिल हैं, और वह एक मुश्किल स्थिति में है। क्वाड (अमेरिकी, जापानी और ऑस्ट्रेलियाई) क्लब और ब्रिक्स समूह में एक हितधारक के रूप में, भारत को पश्चिम और चीन-रूसी ब्लॉक के बीच संतुलन का ध्यान रखना चाहिए। अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था में क्वाड और भारत के हालिया इतिहास में महत्वपूर्ण क्षण यूक्रेन युद्ध और चीन के साथ उसके संबंध पर भारत के रुख में निहित है।

प्रौद्योगिकी प्रतिस्पर्धा में चिप उद्योग प्रतिस्पर्धा की भूमिका

चीन-रूस गठबंधन न केवल शक्ति-संतुलन में बदलाव लाता है, बल्कि अंतरराष्ट्रीय चिप उद्योग और प्रौद्योगिकी प्रतिस्पर्धा को भी प्रभावित करता है। सैन्य तकनीकी स्तर पर रूस द्वारा चीन को गले लगाने से उसे कुछ विशेष क्षेत्रों में पश्चिम से आगे निकलने का मौका मिल सकता है, उदाहरण के लिए, हाइपरसोनिक्स और परमाणु प्रणोदन। यह चीन को सबसे उन्नत प्रौद्योगिकी के लिए प्रतिस्पर्धा में बढ़त प्रदान कर सकता है और संभवतः वैश्विक चिप आपूर्ति श्रृंखलाओं के क्रम को पुनर्व्यवस्थित कर सकता है।

सामान्यतः पूछे जाने वाले प्रश्न

  • क्या चीन और रूस औपचारिक सहयोगी हैं? नहीं, चीन और रूस औपचारिक संधि सहयोगी नहीं हैं और एक दूसरे की रक्षा करने के लिए बाध्य नहीं हैं। हालांकि , उनकी उभरती रणनीतिक साझेदारी ने वाशिंगटन में चिंता पैदा कर दी है 
  • चीन-रूस संबंधों में प्रमुख चुनौतियाँ क्या हैं? अविश्वास, ऐतिहासिक शिकायतें और यूक्रेन में युद्ध चीन-रूस संबंधों के लिए चुनौतियाँ हैं। हालाँकि , विशेषज्ञों का कहना है कि युद्ध का उनके द्विपक्षीय संबंधों पर बहुत कम प्रभाव पड़ा है, और आक्रमण के बाद से उनके सैन्य संबंधों और संयुक्त अभ्यासों में गिरावट के कोई संकेत नहीं दिखे हैं।
  • चीन-रूस गठबंधन भारत की विदेश नीति को कैसे प्रभावित करता है? भारत को पश्चिम और चीन-रूस गठबंधन दोनों के साथ अपने संबंधों को संतुलित करना चाहिए। यूक्रेन  युद्ध पर भारत का रुख और चीन के साथ उसके संबंध वैश्विक व्यवस्था में उसकी स्थिति निर्धारित करने में महत्वपूर्ण होंगे।

 

निष्कर्ष

अंत में हम कह सकते हैं कि चीन, रूस गठबंधन दुनिया की मौजूदा वैश्विक व्यवस्था और स्थिरता के लिए एक गंभीर चुनौती है। इस प्रभाव का दायरा केवल सैन्य क्षेत्र तक सीमित नहीं है, बल्कि यह ऊर्जा सुरक्षा, वैश्विक चिप उद्योग और प्रौद्योगिकी प्रतिस्पर्धा से भी संबंधित है। अमेरिका और उसके साझेदारों को प्रभावशाली और सुरक्षित बने रहने के लिए बदलते भू-राजनीतिक माहौल में अपने तरीके तलाशने होंगे।

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *