मालदीव-चीन संबंध: राष्ट्रपति मुइजु की भूमिका और संभावित कर्ज जाल के परिणामों का मूल्यांकन

How These 10 Countries Are Falling Into China's Debt Trap, 40% OFF

भारतीय महासागर के एक छोटे से राजा, मालदीव, अब अपने बढ़ते हुए संबंधों के कारण वैश्विक ध्यान में है। विशेषज्ञ और राजनीतिक विश्लेषक चिंतित हैं कि मालदीव चीन के कर्जजाल में गिर रहा है, जो श्रीलंका और पाकिस्तान में हुआ था। इस लेख का उद्देश्य है मालदीव की वर्तमान स्थिति की खोज करना, राष्ट्रपति मोहम्मद मुइजु की भूमिका का विश्लेषण करना, और चीन के साथ बढ़ते संबंधों के संभावित परिणामों की चर्चा करना।

Maldives India Out Campaign China: Maldives Pro China Leader Abdulla Yameen Running India Out Campaign Abdulla Shahid Tries To Put End - चीन का दलाल है मालदीव का पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन ?मालदीव और चीन: एक संक्षेप :

मालदीव और चीन के बीच राजनैतिक संबंध 1972 में स्थापित हुए थे, जिनमें सामान्यत: दोस्ताना माहौल था। हालांकि, अब्दुल्ला यमीन के प्रशासनकाल (2013-2018) में एक महत्वपूर्ण बदलाव हुआ, जिसमें मालदीव ने चीन की बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव (BRI) को अपनाया। इस कदम को भारत के पारंपरिक साथी से दूर होने की दृष्टि से देखा गया।

राष्ट्रपति मोहम्मद मुइजु: चीन के साथ समर्थन :China fully backs Maldives' sovereignty, says President Muizzu in face of row with India – Kashmir Media Service

2018 के राष्ट्रपति चुनाव में जीत हासिल करने के बाद, राष्ट्रपति मोहम्मद मुइजु ने स्थिर रूप से मालदीव के संबंधों को चीन के साथ मजबूत किया है। उनकी पहली राजदूत यात्रा जनवरी 2024 में बीजिंग में हुई, जिसमें मुइजु ने चीन के साथ जलवायु, कृषि, और बुनियादी संरचना पर कई समझौते किए। यह यात्रा उनके अभियान के हिस्से थे, जिसमें उन्होंने भारत को मालदीव की संप्रभुता के लिए खतरा माना, और इसने उनके अभियान के मूल भूतक भी स्थापित किए।

India Out' - Shafaqna India | Indian Shia News Agency“इंडिया आउट” अभियान और इसके परिणाम :

2023 के राष्ट्रपति चुनाव के दौरान जोर पकड़ने वाले “इंडिया आउट” अभियान ने मालदीव को चीन की ओर मोड़ने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इस अभियान ने भारतीय सैन्य के कर्मियों और उनकी उपकरणों की हटाने की मांग की, जिससे यह खचित हो गया कि उ

नकी मौजूदगी ने देश की संप्रभुता को खतरे में डाला। हालांकि, इस अंटी-इंडिया भावना ने भी मालदीव के रिश्ते को अपने पारंपरिक साथी, भारत, के साथ तनाव में डाल दिया।

चीन का कर्जजाल राजनीति और मालदीव  :The Risk of Chinese Debt-Trap Diplomacy in South Asia – CBAP

चीन की बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव (BRI) को उसकी “कर्जजाल राजनीति” के लिए आलोचना का सामना करना पड़ा है, जिसमें देशों को इंफ्रास्ट्रक्चर परियोजनाओं के लिए बड़े ऋण स्वीकार करने के लिए प्रलोभित किया जाता है जो वे चुका नहीं सकते। इससे उत्पन्न होने वाले आरोपों के अनुसार, चीन इन ऋणों का राजनीतिक पैम्फलेट और रिसीवर देशों पर नियंत्रण प्राप्त करने के लिए इस्तेमाल कर रहा है।

मालदीव के मामले में, देशने विभिन्न इंफ्रास्ट्रक्चर परियोजनाओं के लिए चीन से करोड़ों डॉलर का कर्ज लिया है। विरोधकारी यह तर्क देते हैं कि मालदीव का बढ़ता हुआ कर्ज उस स्थिति की ओर ले जा सकता है जो श्रीलंका में हुआ, जहां देश को अपने कर्ज की चुकता करने के लिए अपने रणनीतिक बंदरगाह को 99 साल के लिए चीन को देना पड़ा।

निष्कर्ष :

मालदीव और चीन के बीच के संबंध, राष्ट्रपति मोहम्मद मुइजु के मार्गदर्शन में, चीन की कर्जजाल राजनीति के प्रति राष्ट्र की सुरक्षा के संदेह उत्पन्न कर रहे हैं। “इंडिया आउट” अभियान और इसके बाद का तनाव इस स्थिति को और जटिल बना रहे हैं। आगे देखते हैं कि मालदीव इन चुनौतियों को सफलतापूर्वक सामना कर सकता है या क्या यह चीन के कर्जजाल में गिर जाएगा, जिससे देश की संप्रभुता और आर्थिक स्वतंत्रता के लिए संभावित कठिनाईयों का सामना करना पड़ सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *